ABP-C Voter Survey: BJP जीत सकती है चुनाव- 43% का अनुमान, 35% बोले- बेरोजगारी सबसे प्रमुख मुद्दा

0
3

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को अब ज्यादा वक़्त नहीं बचा है। सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस (TMC) सरकार बचाने के लिए पूरा जोर लगा रही हैं वहीं लोकसभा चुनाव में शानदार प्रदर्शन से उत्साहित विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (BJP) भी हर दांव आजमा रही है। ताज़ा ABP-C Voter Survey के मुताबिक भारतीय जनता पार्टी (BJP) इस बार का विधानसभा चुनाव जीत सकती है।

ABP-C Voter Survey के मुताबिक 45 फीसदी लोगों का मानना है कि ममता के नाम पर TMC चुनाव जीत सकती है। वहीं 43 प्रतिशत लोगों का कहना है कि दीदी ये चुनाव हार जाएगी। 12 फीसदी लोग ऐसे भी हैं जिनका कहना था कि चुनाव में क्या होगा ये अभी कहा नहीं जा सकता। बंगाल में चुनाव का सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी है। 35 फीसदी लोगों का मानना है कि यह चुनाव बेरोजगारी के मुद्दे पर लड़ा जाएगा। 17 फीसदी लोगों का कहना है कि बिजली, पानी और सड़क ज्यादा बड़ा मुद्दा है। राज्य के 45% लोगों का कहना है कि 11 प्रतिशत लोग सरकार भ्रष्टाचार पर रोक को बड़ा मुद्दा मानते हैं।

सर्वे के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सबसे पसंदीदा मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर पर उभरी हैं। राज्य के 54% लोग चाहते हैं कि ममता बनर्जी एक बार फिर सीएम बने। दीदी के अलावा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष दूसरे नंबर पर हैं। घोष को 24% लोग मुख्य मंत्री के रूप में देखना चाहते हैं। वहीं 8% लोग मुकुल रॉय, 3% सूजन चक्रवर्ती, 3% लोग बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, 2% लोग अधीर रंजन चौधरी, 2% लोग शुबेंधु अधिकारी और 1% लोग बाबुल सुपरियो को सीएम बनते देखना चाहते हैं।

सर्वे के मुताबिक ज़्यादातर लोगों का मानना है कि दिनेश त्रिवेदी के इस्तीफा से टीएमसी को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है। 41 फीसदी लोगों का कहना है कि नुकसान हुआ है। वहीं 46 फीसदी अब भी मानते हैं कि कोई नुकसान नहीं हुआ। 13 प्रतिशत लोगों ने इसपर अपनी राय नहीं दी है।

सर्वे के मुताबिक 51% लोग मानते हैं कि दीदी मुख्यमंत्री के रूप में अच्छी हैं। 18% लोगों का कहना है कि ममता औसत हैं और वहीं 31% लोगों का मानना है कि मुख्य मंत्री के तौर पर ममता ठीक नहीं हैं। वहीं काम कि बात की जाये तो 48% लोग दीदी के काम से खुश हैं और उसे सही मानते हैं। 19% लोगों का कहना है कि दीदी का काम औसत रहा है। वहीं 33% लोग मानते हैं कि ममता बनर्जी ने खराब काम किया है।


<!–

–>


Source by [author_name]